Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

बाड़मेर में एक लाख प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास का निर्माण, ग्रामीण परिवारों का पक्के आवास का सपना हुआ साकार।

बाड़मेर में एक लाख प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास का निर्माण, ग्रामीण परिवारों का पक्के आवास का सपना हुआ साकार। बाड़मेर समेत प्रदेश के तीन जिलों मे...

बाड़मेर में एक लाख प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास का निर्माण, ग्रामीण परिवारों का पक्के आवास का सपना हुआ साकार।



बाड़मेर समेत प्रदेश के तीन जिलों में हुआ एक लाख आवासों का निर्माण।
बाड़मेर। जिले में एक लाख ग्रामीणो  का पक्के आवास का सपना साकार हो गया है। बाड़मेर जिले में 1 लाख 39 हजार 45 आवास निर्माण का लक्ष्य था। इसके एवज में अब तक 1 लाख 410 आवास का निर्माण पूर्ण हो चुका है। जबकि अन्य आवासोंं का निर्माण प्रगति पर है। प्रदेश में बांसवाड़ा एवं उदयपुर के साथ बाड़मेर जिला एक लाख आवास निर्माण करवाने वाले जिलोंं में शामिल हो गया है।
बाड़मेर जिले में ग्रामीण परिवारोंं के लिए प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना वरदान साबित हो रही है। बाड़मेर जिले में आमतौर पर कच्चे घर होने से आगजनी में सालाना कई परिवार बेघर हो जाते है। वहीं कच्चे घर की नियमित मरम्मत के लिए ग्रामीणां को खासी दिक्कतां का सामना करना पड़ता है। ऐसे में प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास निर्माण को लेकर आमजन खासी रूचि दिखा रहे है। जिले में जिला कलक्टर विश्राम मीणा, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मोहनदान रतनू एवं अधिशाषी अभियंता भेराराम विश्नोई के निर्देशन में आवास निर्माण के कार्यां को पूरा करवाने को विशेष प्राथमिकता दी गई। जिला स्तर पर प्रभावी मोनेटरिंग के साथ जन प्रतिनिधियां एवं पंचायतीराज विभाग के कार्मिको का सहयोग लिया गया। इसके बेहतर परिणाम सामने आने के साथ बाड़मेर जिले में एक लाख से अधिक आवासोंं का निर्माण पूरा हो चुका है। अन्य आवासोंं को पूर्ण करवाने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे है।
 

महिला सशक्तिकरण को संबलः प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना में आमतौर पर परिवार की मुखिया महिला को मानते हुए उसके नाम से आवास स्वीकृत किया जाता है। आवास निर्माण की राशि भी उसके खाते में हस्तातंरित होती है। इस व्यवस्था से महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा मिलने के साथ उनकी आर्थिक स्थिति मजबूत हुई है। ग्रामीण महिलाओं ने व्यक्तिगत रूचि दिखाते हुए आवास निर्माण करवाया।



पक्के आवास का सपना हुआ साकारः प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के लाभांवित परिवारां के लिए पक्का आवास किसी सपने से कम नहीं था। उनको विश्वास नहीं था कि उनके घर में पक्के आवास का निर्माण होगा। भाखरपुरा निवासी अगरी के मुताबिक उनके लिए पक्का घर एक सपना था। जो अब पूरा हो गया है, उसका परिवार बेहद खुश है। बिढाणियो की ढाणी निवासी मोतादेवी बताती है कि उसके घर में कच्चा झोपड़ा था। पक्का आवास बनने से उसके परिवार का सपना पूरा हो गया है। 



आवास निर्माण से पक्की छत हुई नसीबः ग्रामीण इलाकां में आवास निर्माण होने से हजारां परिवारां को पक्की छत नसीब हुई है। अब तक बारिश एवं सर्दी के मौसम में इनको खासी दिक्कतां का सामना करना पड़ता था। प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना में आवास निर्माण के साथ स्वच्छ भारत मिशन के तहत शौचालय बनाए जा रहे है।

इनका कहना हैं
बाड़मेर जिले में प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के तहत अब तक 1 लाख आवासोंं का निर्माण हुआ है। अन्य कार्यां को प्राथमिकता से पूर्ण करवाने के लिए प्रभावी मोनेटरिंग की जा रही है। इससे गरीब परिवारां के पक्के घर का सपना साकार हुआ है। आवास निर्माण के लिए प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना, स्वच्छ भारत मिशन एवं मनरेगा से राशि स्वीकृत की जाती है। प्रदेश में बाड़मेर के अलावा बांसवाड़ा एवं उदयपुर जिले एक लाख आवास निर्माण करवा पाए है। बाड़मेर जिले में टीम वर्क की बदौलत ऐसा हो पाया है।
- मोहनदान रतनू, मुख्य कार्यकारी अधिकारी, जिला परिषद, बाड़मेर।

प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के तहत आवास निर्माण के लिए प्रतिदिन मोनेटरिंग करने के साथ अधिकारियों की ओर से ग्रामीण इलाको का भ्रमण किया जा रहा है। पक्के आवास बनने से ग्रामीण बेहद खुश है।
- भेराराम विश्नोई, अधिशाषी अभियंता, जिला परिषद, बाड़मेर।

कोई टिप्पणी नहीं