Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

जोधपुर: सात वर्षीय हिमांशु का शव प्लास्टिक कट्टे में मिला, पुलिस ने खोला राज।

जोधपुर: सात वर्षीय हिमांशु का शव प्लास्टिक कट्टे में मिला, पुलिस ने खोला राज। जोधपुर। शहर में जालोरी गेट के भीतर कुम्हारिया कुआं में जटियों ...

जोधपुर: सात वर्षीय हिमांशु का शव प्लास्टिक कट्टे में मिला, पुलिस ने खोला राज।



जोधपुर। शहर में जालोरी गेट के भीतर कुम्हारिया कुआं में जटियों की गली से अपहृत सात वर्षीय बालक का शव बुधवार दोपहर रातानाडा में पुलिस महानिरीक्षक (रेंज) के सरकारी बंगले के पास नाले में प्लास्टिक कट्टे में मिलने से सनसनी फैल गई। पड़ोसी युवक ने फिरौती के लिए उसका अपहरण कर अपने घर में गला घोंट हत्या की और फिर शव कट्टे में डाल मोटरसाइकिल पर ले जाकर नाले में फेंक दिया था। पुलिस ने देर रात आरोपी को गिरफ्तार किया।
पुलिस उपायुक्त (पूर्व) धर्मेन्द्रसिंह के अनुसार जटियों की गली निवासी हिमांशु (7) पुत्र बंशीलाल प्रजापत का सोमवार शाम 5 बजे अपहरण कर लिया गया था। प्लास्टिक कट्टे में बंद उसका शव बुधवार दोपहर आइजी (रेंज) के बंगले के पास पोलो मैदान से निकलने वाले नाले में मिला। एफएसएल जांच के बाद शव एमडीएम अस्पताल की मोर्चरी में रखा गया, जहां जिला कलक्टर की अनुमति से रात को मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम कराया गया। इस मामले में जटियों की गली निवासी किशन सोनी को गिरफ्तार किया गया।

तड़के चार बजे शव कट्टे में डाल मोटरसाइकिल पर नाले में फेंका:
फिरौती के लिए पड़ोंसी किशन ने हिमांशु के अपहरण की साजिश रची। वह उसे बहला-फुसलाकर अपने घर ले गया था। पिता व अन्य परिजन घर नहीं थे। कुछ ही देर बाद गला घोंटकर हिमांशु की हत्या कर दी थी। इतने में पिता आ गए तो शव कमरे में ही छुपा दिया था। मंगलवार तड़के चार बजे वह उठा और शव कट्टे में डाल मोटरसाइकिल पर पीछे रख ले गया और पोलो मैदान के नाले में फेंक दिया था। साजिश में उसके साथ किसी अन्य की भूमिका की जांच की जा रही है।

इंटरनेट नम्बर से व्हाट्सअप्प किया:
हत्या के बावजूद किशन ने फिरौती वसूलने का प्रयास किया। उसने हिमांशु के हलवाई दादा ओमप्रकाश के व्हॉट्सऐप में मंगलवार रात 10.20 बजे इंटरनेट नम्बर से संदेश भेजा, लेकिन उन्होंने नहीं पढ़ा। वॉइस कॉल भी किया, लेकिन दादा ने बात नहीं की। तब किशन ने बुधवार सुबह 10.23 बजे पड़ोसी मुकेश के मोबाइल में व्हॉट्सऐप किया कि ओमप्रकाश से व्हॉट्सऐप चेक कराओ। तब दादा को पोते के बदले दस लाख रुपए फिरौती मांगने का पता लगा। अपहरणकर्ता ने कहा कि वे बुलाए उस जगह 10 लाख रुपए लेकर आ जाएं। दादा ने दो-तीन दिन की मोहलत मांगी। तब अपहरणकर्ता ने और मैसेज भेज धमकाया कि कुछ देर बाद बालक का शव ले जाना। परिजन डर गए और पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने मोबाइल कब्जे में लेकर तलाश तेज की, लेकिन इस बीच कट्टे में शव मिल गया।

घर के प्लास्टिक कट्टे में डाला शव:
आरोपी किशन के पिता ठेले पर सब्जी - पूड़ी बेचते हैं। पुड़िया बनाने के लिए 25 किलो आटे का कट्टा खरीदते हैं। पुत्र ने उसी में हिमांशु का शव डाल नाले में फेंका था। पुलिस ने इस कट्टे व दादा के व्हॉट्सऐप में आए इंटरनेट नम्बर से जांच शुरू की। डीसीपी (पूर्व) के तकनीकी एक्सपर्ट राकेश ने नम्बर ट्रैस कर लिए, लेकिन शव मिलने तक व्हॉटसऐप बंद कर दिया था। इसके बावजूद पुलिस ने किशन सोनी को तलाश कर हिरासत में लिया। पूछताछ में उसने रुपए व फिरौती के लिए वारदात कबूल की।

कोई टिप्पणी नहीं