Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

चूल्हे की चिंगारी ने ली एक मासूम की जान, एक ने भागकर बचाई जान।

चूल्हे की चिंगारी ने ली एक मासूम की जान, एक ने भागकर बचाई जान। जोधपुर। जिले के आऊ कस्बे के बांसवाड़ा नगर ग्राम पंचायत के भीलों की ढाणी में रह...

चूल्हे की चिंगारी ने ली एक मासूम की जान, एक ने भागकर बचाई जान।



जोधपुर। जिले के आऊ कस्बे के बांसवाड़ा नगर ग्राम पंचायत के भीलों की ढाणी में रहने वाला उम्मेदाराम हमेशा की तरह सुबह मजदूरी पर चला गया। ग्रामीणों ने बताया कि उम्मेदाराम 400 रुपए की मजदूरी पर काम करता है। उम्मेदाराम और उनकी पत्नी पिछले साल ही परिवार से अलग हुए थे। अपनी मेहनत मजदूरी से उन्होंने एक झोपड़ी बनाई थी और दूसरी बनाने की तैयारी कर रहे थे। एक झोपड़ी में सोमवार दोपहर आग लगने से 2 साल की एक मासूम बच्ची की जिंदा जलकर मौत हो गई। आग की भेंट चढ़ी झोपड़ी में बेटा और बेटी को सुलाकर मां बाहर गई थी। जब तक वापस लौटती तब तक झोपड़ी में आग लग चुकी थी। आग लगते ही उसका 4 साल का बेटा तो बाहर निकल आया। लेकिन बच्ची अंदर ही रह गई और जिंदा जल गई। जानकारी के मुताबिक दोपहर में घरेलू काम निपटा कर उम्मेदराम की पत्नी चार वर्षीय बेटे सुनील और दो वर्षीय बेटी पूजा को झोपड़ी में सुलाकर किसी कार्य से बाहर गई। इस दौरान झोपड़े ने चूल्हे की चिंगारी से आग पकड़ ली। तेज हवा के चलते चूल्हे की चिंगारी ने आग में घी का काम किया। आग लगते ही पड़ोस में रहने वाले लोग चिल्लाते हुए मदद को पहुंचे। तब तक अंदर सो रहा सुनील दौड़कर बाहर निकल आया, लेकिन पूजा अंदर आग से घिर गई। उसे बाहर निकलने का मौका नहीं मिल पाया। पूजा की झुलसने से मौत हो गई। झोपड़े में रखा सारा सामान जलकर नष्ट हो गया। मासूम का शव देख पति-पत्नी बिलख उठे। हादसे की सूचना पर भोजासर थाना अधिकारी गोविंद सिंह राजपुरोहित और नायब तहसीलदार रमजान खान मौके पर पहुंचे और शव का पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों को सुपुर्द कर दिया।

कोई टिप्पणी नहीं