Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

कोरोना काल की अनूठी शादी के ज़रिए मोनिका जांगिड़ ने पेश की मिसाल।

कोरोना काल की अनूठी शादी के ज़रिए मोनिका जांगिड़ ने पेश की मिसाल। जयपुर। कोराना जैसी वैश्विक मानवीय आपदा के समय में साधन संसाधनों के अभाव के...

कोरोना काल की अनूठी शादी के ज़रिए मोनिका जांगिड़ ने पेश की मिसाल।




जयपुर। कोराना जैसी वैश्विक मानवीय आपदा के समय में साधन संसाधनों के अभाव के बावजूद साधारण परिवार की एक बेटी ने अपने विवाह के अवसर पर पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में अद्वितीय नवाचार करते हुए उदाहरण प्रस्तुत किया है।
श्री कल्पतरू संस्थान के "द जयपुर गार्डनर" अभियान का पिछले सात वर्षों से संचालन कर रही वॉलिंटियर मोनिका जांगिड़ ने सरकार की ओर से निर्धारित गाइडलाइन की पालना करते हुए मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग और सेनीटाइज की तो उचित व्यवस्था की ही, साथ ही अपने घर पर अपने हाथों से तुलसी और गिलोय के 31 पौधे तैयार करके आने वाले मेहमानों को भी भेंट किए। पौधे तैयार करने के लिए प्लास्टिक की थैली के स्थान पर पूजन के लिए लाए गए नारियल के खाली खोल का उपयोग ज्यादा किया गया। बारात में दूल्हे सहित केवल 11 लोग ही आए थे और कुल 31 मेहमान शामिल थे।
राजस्थान भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनिया ने भी पत्र लिखकर मोनिका को बेटी संबोधित करते हुए भावी गृहस्थ जीवन की मंगल कामनाएं दी है। साथ ही डॉक्टर पूनिया ने बेटियों को अनमोल बताते हुए मोनिका के लिए टवीट् भी किया।
दरअसल मोनिका जांगिड़ एक सामान्य परिवार से आती है, उनके पिता फर्नीचर का काम करते हैं।
सदैव विवाह समारोह से दूरी बनाए रखने वाले ट्रीमैन ऑफ इंडिया के नाम से मशहूर पर्यावरणविद विष्णु लाम्बा भी इस समारोह में मेहमानों कि आवभगत में जुटे रहे। मोनिका ने एक साक्षात्कार में ट्रीमैन लांबा को अपना आदर्श बताया था।
आपको बता दें कि पूर्व में भी सराहनीय सेवाओं के लिए हिमाचल के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉक्टर सतीश पूनिया, राजस्थान के वन मंत्री राजकुमार रिणवा, जयपुर सांसद रामचरण बोहरा सहित कई दिग्गज विभिन्न अवसरों पर मोनिका का मनोबल बढ़ा चुके हैं। वे पिछले सात वर्षों से संस्थान की सक्रिय कार्यकर्ता के रूप में अपनी ओर से निस्वार्थ सेवाएं दे रही हैं।
मोनिका ने बताया कि समारोह में पौधे वितरण को लेकर कुछ लोगों ने परंपरा ना होने की हिदायत देकर नाराजगी व्यक्त की लेकिन मेरे समझाने पर उन्हें भी समझ में आया कि वर्तमान दौर में मानव कल्याण के लिए तुलसी और गिलोय अमृत के समान कार्य कर रहे हैं जिसे घर-घर में उगाया जाना चाहिए। यह पौधे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के साथ-साथ ऑक्सीजन की कमी को भी पूरा करते हैं।
शनिवार को मोनिका की शादी संपन्न हो गई। और अब 10 मई से सरकार की ओर से पुनः लोग डाउन की घोषणा कर दी गई है। ऐसे में मोनिका ने सभी से अपील की है कि सरकार की ओर से प्राप्त प्रत्येक सूचना का पूर्णतः पालन करें और भारत को कोरोना मुक्त बनाने में अपना योगदान दें।
गौरतलब है कि मोनिका जांगिड़ ने स्वयं ही सैकड़ों मास्क तेयार करके श्री कल्पतरू संस्थान से जुड़े अपने साथी कार्यकर्ताओं के साथ वितरित किए हैं। साथ ही वे अब तक सात वर्षों में दस हज़ार पौधे लगाकर उन्हें संरक्षित भी कर चुकी है।

कोई टिप्पणी नहीं