Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

सड़क हादसे में सिक्योरिटी ऑफिसर की मौत का मामला, 42 घंटे से नहीं हो पा रहा था शव का पोस्टमार्टम, अब कुछ मांगों पर सहमति बनी तो टूटा गतिरोध।

सड़क हादसे में सिक्योरिटी ऑफिसर की मौत का मामला, 42 घंटे से नहीं हो पा रहा था शव का पोस्टमार्टम, अब कुछ मांगों पर सहमति बनी तो टूटा गतिरोध। ब...

सड़क हादसे में सिक्योरिटी ऑफिसर की मौत का मामला, 42 घंटे से नहीं हो पा रहा था शव का पोस्टमार्टम, अब कुछ मांगों पर सहमति बनी तो टूटा गतिरोध।




बाड़मेर जिले के शिव थानान्तर्गत सड़क हादसे में एक एक्स आर्मी मैन की मौत के दूसरे दिन परिजन और कंपनी के बीच मांगो को लेकर सहमति बनने के बाद परिजन शव का पोस्टमार्टम कराने को राजी हो गए। तीन मांगों पर सहमति बनने के बाद करीब 42 घंटों के बाद गतिरोध टूट गया। लोग सोमवार सुबह से मोर्चरी के बाहर धरने पर बैठे थे। 
मृत्यु के दूसरे दिन सोमवार को सुबह से मोर्चरी के आगे भारी संख्या में समाज व ग्रामीण एकत्रित हो गए थे। परिजनों, समाज के लोगों की कंपनी के अधिकारियों के बीच वार्ता हुई जिस पर कंपनी और परिजनों के बीच तीन मांगों पर बनी सहमति बन गई।
परिवार को 10 लाख रुपए की आर्थिक सहायता, परिवार के सदस्य को योग्यतानुसार नौकरी, और मृतक के पत्नी और बच्चों को मासिक पेंशन देने पर सहमति बनने के बाद परिजनों ने शव का पोस्टमार्टम करवाने के लिए राजी हुए। वार्ता के दौरान शिव एसडीएम महावीरसिंह जोधा, तहसीलदार रामसिंह, बाड़मेर डीएसपी आनंदसिंह राजपुराेहित, चौहटन डीएसपी नारायणसिंह भी मौजूद थे। शिव एसडीएम महावीरसिंह जोधा ने बताया कि परिजनों और कंपनी के बीच आपसी सहमति बनने के बाद शव का पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों को सौंप दिया।

यह थी मांगे
धरने पर बैठे परिजनों और ग्रामीणों की मांग है कि परिवार आर्थिक रूप से कमजोर है। इस लिए परिवार को 50 लाख रुपए की आर्थिक मुआवजा, लाल सिंह के पुत्र को योग्यतानुसार वेदांता में स्थाई रोजगार, विकलांग पत्नी को वेदांता द्वारा भरण पोषण के लिए मासिक पारिवारिक पेंशन, बच्चों की पढ़ाई की पूर्ण व्यवस्था करने की मांग की है।

इन पर बनी सहमति
मृतक की मौत के दूसरे दिन गतिरोध परिवार को 10 लाख रुपए की आर्थिक सहायता, परिवार के सदस्य को योग्यतानुसार नौकरी, और मृतक के पत्नी और बच्चों को मासिक पेंशन देने की सहमति के बाद समाप्त हुआ।
शिव अस्पताल के आगे शिव थानाधिकारी ओमप्रकाश विश्नोई, सहित आस-पास के थानों का पुलिस जाब्ता तैनात था। एहतियात के तौर पर आरएसी भी तैनात की गई थी।

यह था मामला
शनिवार देर रात रणधा निवासी एक्स आर्मी मैन लालसिंह (48) पुत्र सादुल सिंह अपने गांव रणधा तहसील फतेहगढ़ जिला जैसलमेर से वेदांता भाग्यम भाडखा जा रहे थे। इस दौरान एनएच 68 आगोरिया गांव में स्काॅर्पियों पलटने से मौत हो गई है। शव को शिव माेर्चरी में रखवाया। परिजन और ग्रामीण सुबह से मोर्चरी के आगे धरने पर बैठ गए।

कोई टिप्पणी नहीं