Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी पर चढ़ीं जयपुर की दिव्या राज, 6 महीने की ट्रेनिग के बाद पाई सफलता।

अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी पर चढ़ीं जयपुर की दिव्या राज, 6 महीने की ट्रेनिग के बाद पाई सफलता। देश की बेटियों का कमाल जारी है। राज्य की राजधानी...

अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी पर चढ़ीं जयपुर की दिव्या राज, 6 महीने की ट्रेनिग के बाद पाई सफलता।




देश की बेटियों का कमाल जारी है। राज्य की राजधानी जयपुर की एक बेटी ने पर्वतारोहण में जबर्दस्त प्रदर्शन कर राजस्थान और पूरे देश का नाम रोशन किया है। जयपुर जिला मुख्यालय के मालवीय नगर की दिव्या राज ने अफ्रीका महाद्वीप के सबसे ऊंचे पर्वत किलिमंजारो की चोटी पर चढ़कर नया इतिहास रचा है। खास बात यह है कि दिव्या राज का लक्ष्य अब सातों महाद्वीपों की सबसे ऊंची चोटियों पर विजय प्राप्त करना है। इस चोटी को फतह करने के लिए दिव्या राज ने जुलाई के आखिरी सप्ताह में अफ्रीका के लिए दुबई से रवाना हुई थीं। दिव्या राज वर्तमान में एलएंडटी में business development manager पद पर कार्यरत्त है। उन्होंने 29 जुलाई को 4700 मीटर की ऊंचाई पर स्थित हाई बेस कैंप से 5895 मीटर ऊंचाई पर स्थित अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी माउंट किलिमंजारो पर फतेह प्राप्त करने के लिए चढ़ाई शुरू की। रात्रि 12 ( temperature -10 degree)बजे से चढ़ना प्रारंभ कर दिव्या राज आखिरकार चोटी पर पहुंच ही गईं। दिव्या राज का उस चोटी पर कदम रखना राजस्थान की हर बेटी और माँ के लिए गोरवान्वित करने वाला पल बना गया। 29 जुलाई को उन्होंने शिखर पर पहुंच कर इतिहास रच दिया। दिव्या राज सेंट आन्सेल्मस पिंक सिटी की विद्यार्थी रह चुकी divya जोधपुर MBM इंजीनियरिंग कॉलेज से इंजीनियरिंग पासआउट है। दिव्या ने इसके लिए 6 महीने की ट्रेनिग भी ली थी। दिव्या राज के मुताबिक उत्तर-पूर्वी तंजानिया स्थित किलिमंजारो पर्वत अफ्रीका महाद्वीप का सबसे बड़ा और विश्व का सबसे ऊंचा एकल पर्वत है। यह 'सेवन समिट्स का चौथा सबसे ऊंचा पर्वत भी है। उन्होंने अपनी सफलता को राजस्थान की बेटियों और महिला सशक्तिकरण के नाम समर्पित किया है। दिव्या के दस साल का बच्चा है और उनके मुताबिक सफलता के लिए उम्र कभी मायने नही रखती। दिव्या राज की सफलता के बाद उसे बधाई देने वालो का उनके पैतृक घर मे तांता लगा हुआ है।

कोई टिप्पणी नहीं