Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

सुपर ओवर में जीता धऊआ : धऊआ पंचायत क्रिकेट प्रतियोगिता लगातार चौथी बार जीती।

सुपर ओवर में जीता धऊआ : धऊआ पंचायत क्रिकेट प्रतियोगिता लगातार चौथी बार जीती। जैसलमेर। ग्राम पंचायत धऊआ में आयोजित स्व. भवानी सिंह स्मृति जिल...

सुपर ओवर में जीता धऊआ : धऊआ पंचायत क्रिकेट प्रतियोगिता लगातार चौथी बार जीती।




जैसलमेर। ग्राम पंचायत धऊआ में आयोजित स्व. भवानी सिंह स्मृति जिला स्तरीय पंचायत क्रिकेट प्रतियोगिता लगातार चौथी बार धऊआ ने जीतकर अपनी श्रेष्ठता साबित की। धऊआ ने बड़ाबाग एलेवेन को कड़े मुकाबले में सुपर ओवर में हराकर प्रतियोगिता जीत ली। प्रतियोगिता में कुल बत्तीस टीमों ने हिस्सा लिया। फाइनल मुकाबला धऊआ रॉयल और बड़ाबाग इलेवन के बीच खेला गया। बेहद रोमांचक और उच्च स्तरीय क्रिकेट खेलकर खिलाड़ीयों ने साबित किया कि ग्रामीण स्तर पर प्रतिभाओं की कमी नहीं।
पंचायत क्रिकेट प्रतियोगिता का समापन समारोह ग्राम पंचायत धऊआ पर जिला प्रमुख प्रताप सिंह के मुख्य आतिथ्य, गजरूसागर मठ के गादीपति बाल भारती, देव चंद्रेश्वर मंदिर गादीपति भगवान भारती के सानिध्य और अशोक तंवर, पूर्व सभापति, हेम सिंह राठोड़ उप प्रधान, टी ट्वेंटी क्रिकेट संघ सचिव चंदन सिंह भाटी, राजेंद्र सिंह चौहान, कोजराज सिंह अध्यक्ष राणा राजपूत समाज, जसवंत सिंह राठोड़ सरपंच मुलाना, सरपंच प्रतिनिधि मोकला माधो सिंह, पदमाराम मूलसागर, भूरसिंह विजयनगर, कान सिंह रामदेवरा, के आतिथ्य में आयोजित किया। इस अवसर पर धऊआ सरपंच हुकुम सिंह सोलंकी के नेतृत्व में अतिथियों का भव्य स्वागत किया गया। अतिथियों ने विजेता और उप विजेता टीमों को ट्रॉफी, पुरस्कार और नकद इनाम राशि देकर सम्मानित किया गया। विजेता टीम को पच्चीस हजार उप विजेता को ग्यारह हजार की नकद राशि और ट्रॉफियां प्रदान की गयी। समापन्न समारोह को सम्बोधित करते हुए जिला प्रमुख प्रताप सिंह ने कहा की पंचायत जिला क्रिकेट प्रतियोगिता के माध्यम से हमे ग्रामीण अंचलो से प्रतिभाएं तलाशने और तराशने का ख़ास अवसर मिला। प्रतियोगिता का स्तर उच्च श्रेणी का रहा, खिलाड़ियों का प्रदर्शन साबित करता हैं की प्रतियोगिता के प्रति खिलाड़ी कितने गंभीर थे। उन्होंने कहा की ऐसे ही अवसर खिलाड़ीयों को नियमित उपलब्ध कराने से ग्रामीण प्रतिभाएं सामने आएगी। इस छोटे फॉर्मेट में भी एक खिलाड़ियों दो शतक लगाकर खुद को साबित किया, उन्होंने उच्च स्तरीय आयोजन के लिए आयोजकों को धन्यवाद ज्ञापित किया।

इस अवसर पर देव चंद्रेश्वर मंदिर के गादिपति भगवान भारती ने कहा की पिछले दो सालों में जैसलमेर में खेल गतिविधिया नए संगठन आने से बढ़ गयी। खिलाड़ियों में प्रतिभाओं की कमी नहीं हैं, आवश्यकता इन्हे उचित प्लेटफार्म पर खिलाकर मौका प्रदान की हैं। इन खिलाड़ियों ने जिस श्रेष्ठ क्रिकेट का प्रदर्शन किया वह शकुन देने वाला हैं।  उन्होंने कहा की जैसलमेर जिले में कबड्डी, टी ट्वेंटी, शूटिंग बॉल के खिलाड़ी की प्रदेश टीमों में खेलने गए यह गर्व का विषय हैं। गादीपति बाल भारती ने खिलाड़ियों को हौसला बढ़ाते हुए कहा की हमे खेलों पर ध्यान केंद्रित करना हैं, हार जीत खेलों का हिस्सा हैं, जो मैदान पर श्रेष्ठ प्रदर्शन करेगा वही जीतेगा, खिलाड़ी बेहतर प्रदर्शन करने का प्रयास जारी रखे। इस अवसर पर पूर्व सभापति अशोक तंवर ने कहा की पंचायत क्रिकेट के माध्यम से बेहतर प्रतिभाएं सामने आई, अब इन प्रतिभान को खेलने के उचित अवसर प्रदान करने होंगे। धऊआ सरपंच हुकुम सिंह सोलंकी ने कहा की खेलों के माध्यम से आपसी सौहार्द, भाईचारा बढ़ता ही हैं, साथ ही खिलाड़ियों का उत्साहवर्धन भी होता हैं जो खिलाड़ीयों के लिए बेहद जरुरी हैं। समय समय पर प्रतियोगिताएँ आयोजित होती रहे। उन्होंने धऊआ के जन प्रतिनिधियों, युवाओं और मोजिज लोगो के सहयोग के कारण बेहत्तर आयोजन कर पाए। उन्होंने ग्रामीणों को सहयोग के लिए आभार जताय। उन्होंने कहा की छोटी - छोटी प्रतियोगिताओ में खिलाड़ीयों को अपनी प्रतिभा दिखाने का भरपूर अवसर प्रदान होता हैं।

खिलाड़ियों पर नकद पुरस्कारों की बारिश
फाइनल मुकाबले में कड़ी टक्कर और खिलाड़ियों के बुलंद हौंसलों ने सभी का दिल जीत लिया। खिलाड़ियों के बेहतर और रोमांचक प्रदर्शन से प्रभावित जन प्रतिनिधियों ने विजेता उप विजेता टीमों पर नकद राशि पुरस्कारों की बारिश कर दी। धऊआ, मूलसागर, मोकला, मुलाना, बड़ाबाग जन प्रतिनिधियों सहित ग्रामीणों ने नकद राशि पुरस्कार में देकर खिलाड़ियों की होंसला अफ़ज़ाई की, साथ ही प्रतियोगिता में श्रेष्ट गेंदबाज़, बल्लेबाज़, सर्वाधिक छक्के लाने वाले खिलाड़ियों को सम्मानित किया गया।

अतिथियों का हुआ सम्मान
पंचायत जिला क्रिकेट प्रतियोगिता में शिरकत करने वाले मुख्यअतिथि, विशिष्ट अतिथियों का साफा, शॉल पहनाकर, स्मृति चिन्ह प्रदान कर उनका सम्मान किया गया। कार्यक्रम के अंत में सुलतान खान ने आभार व्यक्त किया। गणपत सिंह सोलंकी ने मंच संचालन कर सम्मा बाँध दिया।

कोई टिप्पणी नहीं