Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

भोपे ने मासूम के पेट पर दागा गर्म सरिया : पलंग से गिरने पर आ गई थी अकड़न, भोपे ने लगाए दो डाम।

भोपे ने मासूम के पेट पर दागा गर्म सरिया : पलंग से गिरने पर आ गई थी अकड़न, भोपे ने लगाए दो डाम। डूंगरपुर। भोपे ने पेट पर गर्म सरिये से दाग दिय...

भोपे ने मासूम के पेट पर दागा गर्म सरिया : पलंग से गिरने पर आ गई थी अकड़न, भोपे ने लगाए दो डाम।




डूंगरपुर। भोपे ने पेट पर गर्म सरिये से दाग दिया। इसके बाद उसकी तबीयत और बिगड़ गई। 
राजस्थान में इलाज के नाम पर अंधविश्वास का सिलसिला थम नहीं रहा है। बच्चे को गर्म सरिया से दागने का एक और प्रकरण सामने आया है। पलंग से गिरकर बच्चे के शरीर में अकड़न आ गई थी। उसके मां-बाप गुजरात से राजस्थान के अपने गांव आए। बच्चे को भोपे (लोक देवताओं का गायन करने वाला एक समुदाय) के पास ले गए। उसने इलाज के नाम पर 14 माह के बच्चे के पेट को गर्म सरिया से दाग दिया। तबीयत ठीक होने की बजाए और बिगड़ गई। उसके पेट पर सूजन आ गया है। फफोले पड़ गए हैं। वह दर्द से कराह रहा है। अब उसके परिजन अस्पताल लेकर पहुंचे हैं। यह पूरा मामला राजस्थान के डूंगरपुर जिले के रागोला गांव का है।

गुजरात में करते हैं मजदूरी

जानकारी के अनुसार, रागोला गांव निवासी विक्रम गुजरात में मजदूरी करता है। कुछ दिन पहले गुजरात में ही 14 महीने का मेहुल पलंग से नीचे गिर गया था। उसके शरीर में अकड़न आ गई। बच्चे को लेकर परिजन 10 दिन पहले ही रागोला गांव आए थे। यहां एक भोपे के पास उसे ले गए। भोपे ने इलाज के नाम पर मासूम के पेट पर गर्म सरिये से दाग (डाम लगाना) दिया। इसके उसकी तबीयत अचानक से खराब होने लगी। शुक्रवार को जब तबीयत ज्यादा खराब हुई तो उसे हॉस्पिटल लेकर आए। तब जाकर इस मामले का खुलासा हुआ। डॉक्टर ने भी इस लापरवाही पर परिजनों को फटकार लगाई।

अस्पताल में भर्ती चीख रहा है मासूम

बताया जाता है कि गर्म सरिया से जब मासूम को दागा गया तो वह चीखने-चिल्लाने लगा। पर किसी को दया नहीं आई। घर लाने के बाद भी उसकी तबीयत सही नहीं हुई। उसका पेट सूज गया और फफोले के दर्द की वजह से वह तड़पता रहा। करीब 10 दिनों तक मासूम को घर में ही रखा गया। अस्पताल में डॉ. गौरव यादव ने उसकी जांच कर इलाज शुरू किया।

डॉक्टर बोले- जान दांव पर लगा रहे हैं

डॉ. गौरव यादव ने बताया कि गर्म सरिये से दगवाने के बाद बच्चे की अचानक से तबीयत बिगड़ गई। उन्होंने बताया कि अंधविश्वास में परिजन बच्चों की जान दांव पर लगा रहे हैं। उनका कहना है कि यदि बच्चों की तबीयत खराब होती है तो उन्हें हॉस्पिटल लेकर आएं।

डूंगरपुर जिले से 14 महीने के बच्चे को गर्म सरिये से दागने का मामला सामने आया है। मामला बस इतना था कि मासूम पलंग से नीचे गिर गया था और शरीर में अकड़न आ गई। मां-बाप गुजरात में मजदूरी करते हैं। इस पर वे राजस्थान में अपने गांव आ गए और यहां भोपे के पास ले गए। उसने बीमारी सही करने के नाम गर्म सरिये से पेट पर दो डाल लगा दिए। तबीयत सही होने की बजाय ज्यादा खराब होने लगी तो परिजन उसे हॉस्पिटल लेकर आए। डॉक्टर ने बताया कि मासूम के पेट पर सूजन आ गई है और फफोले की वजह से वह दर्द से चिख रहा है।

कोई टिप्पणी नहीं