Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

राजस्थान शहरों में भी रोजगार की गारंटी देने वाला पहला राज्य: स्वायत्त शासन मंत्री

राजस्थान शहरों में भी रोजगार की गारंटी देने वाला पहला राज्य:  स्वायत्त शासन मंत्री गोविन्द भवन विश्राम गृह का  उद्घाटन समारोह आयोजित जयपुर ,...

राजस्थान शहरों में भी रोजगार की गारंटी देने वाला पहला राज्य: स्वायत्त शासन मंत्री




गोविन्द भवन विश्राम गृह का  उद्घाटन समारोह आयोजित
जयपुर , 24 नवम्बर। स्वायत्त शासन एवं नगरीय विकास मंत्री श्री शांति धारीवाल ने कहा कि  राजस्थान देश में पहला ऐसा राज्य है, जहाँ  महात्मा गाँधी नरेगा योजना की तरह शहरों में भी रोजगार की गारंटी देने का काम हुआ है। श्री धारीवाल गुरूवार को यहां राजस्थान स्वायत शासन संस्था द्वारा स्थानीय निकायों के जन प्रतिनिधियों और अधिकारियों के लिए बनाये गए गोविन्द भवन विश्राम गृह के उद्घाटन समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में बोल रहे थे। श्री धारीवाल ने कहा कि गहलोत  सरकार जनता के लिए देश में सबसे ज्यादा योजनाए देने वाली सरकार है। उन्होंने कहा कि सरकार ने जमीनों के नामांतरण और पट्टे देने की प्रक्रिया को सरल बनाया जिस से जनता को बहुत फायदा हुआ। श्री धारीवाल ने स्थानीय निकायों के जन प्रतिनिधियों से अपील करते हुए कहा की वे प्रशासन शहरों के संग अभियान, इंदिरा रसोई योजना ,इंदिरा शहरी क्रेडिट कार्ड योजना  और शहरी रोजगार गारंटी योजना जैसी फ्लेगशिप योजनाओं पर ध्यान केंद्रित कर जनता को ज्यादा से ज्यादा लाभ पहुंचाएं।  उन्होंने कहा कि जन प्रतिनिधियों को अधिकारियों  के साथ समन्वय बिठाना चाहिए ताकि काम सुचारू रूप से हो सके। श्री धारीवाल ने स्वायत्त शासन महाविद्यालय की ओर  से  चलाये जा रहे प्रशिक्षण पाठ्यक्रमों की सराहना करते हुए कहा कि सरकार राज्य में फायर एकेडमी की स्थापना के लिए जमीन उपलब्ध कराएगी।



इस अवसर पर राजस्थान स्वायत शासन संस्था के अध्यक्ष श्री केवल चंद गुलेच्छा ने बताया कि राजस्थान स्वायत शासन संस्था नगर निकायों और राज्य सरकार की कड़ी के रूप में काम कर रही है, और संस्था द्वारा युवाओ के कौशल विकास के लिए सेनेट्री  इंस्पेक्टर और फायरमैन प्रशिक्षण कोर्स चलाये जा रहे है। जीर्णाेद्धार के बाद निर्मित गोविन्द भवन विश्रामगृह के बारे में जानकारी देते हुए उन्होंने बताया की लगभग चार करोड़ की लागत  से बने इस भवन में शहरी निकायों के जन प्रतिनिधियों और अधिकारियों के लिए रियायती दरों  पर खाने और ठहरने की सुविधा उपलब्ध कराई गई है।



कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए स्वायत्त शासन विभाग के शासन सचिव डॉ. जोगाराम ने कहा कि शहरी निकायों की समस्याओ को ध्यान में रखते हुए सरकार की नीतियों में आवश्यक बदलाव करवाने का प्रयास किया जायेगा, जिससे विकास कार्यों को गति मिले। कार्यक्रम में स्थानीय निकायों के निदेशक श्री हृदेश कुमार शर्मा, नगर निगम जयपुर की पूर्व महापौर श्रीमती ज्योति खंडेलवाल, राजस्थान स्वायत शासन संस्था के सचिव श्री प्रदीप बोरड, अन्य पदाधिकारीगण और बड़ी संख्या में राज्य की स्थानीय निकायों के जन प्रतिनिधि उपस्थित थे।



कोई टिप्पणी नहीं