Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

जो संकट में काम आता है दुनिया उसी को याद रखती है: संत मुरलीधर महाराज

जो संकट में काम आता है दुनिया उसी को याद रखती है: संत मुरलीधर महाराज  बाड़मेर। राम कथा आयोजन समिति के तत्वावधान में स्थानीय नंदी गौशाला में आ...

जो संकट में काम आता है दुनिया उसी को याद रखती है: संत मुरलीधर महाराज 




बाड़मेर। राम कथा आयोजन समिति के तत्वावधान में स्थानीय नंदी गौशाला में आयोजित हो रही श्रीराम कथा के पांचवें दिन व्यास पीठ से कथा को आगे बढ़ाते हुए भगवान श्री राम के बाल लीलाओं का वर्णन किया गया। संत मुरलीधर महाराज ने कहा कि भगवान जब छोटे थे और माता कौशल्या घर का कामकाज करती थी तो वह बीच-बीच में नटखट क्रियाएं किया करते थे। एक बार की बात है माता कौशल्या ने ठाकुर जी के लिए प्रसाद बनाया और प्रसाद की थाली ठाकुर जी के देव स्थान पर रखी लेकिन उसमें कुछ चीज भूल गई जो पाकशाला में थी। माता कौशल्या पाकशाला में सामग्री लेने गई और उधर बाल्यवस्था के श्री राम को नहला धुला कर श्रृंगार करके पालने में सुला दिया था। लेकिन जब वह सामग्री लेकर पाकशाला से देवस्थान पर आए तो देखा कि भगवान श्रीराम बालस्वरूप में उस थाली में से लड्डू खा रहे हैं। माता को आश्चर्य हुआ कि इतने छोटे लाला चलकर कैसे आ गए इस स्थान तक और पालना भी इतना बड़ा था कि उसमें उत्तर भी नहीं सकते थे फिर यह यहां चलकर इतनी जल्दी कैसे आ गए। 
फिर कौशल्या ने वापस पालने की और जाकर देखा तो वहां प्रभु श्री राम आराम से सो रहे हैं यह देखकर माता कौशल्या समझ गई है  ये बालक त्रिलोकीनाथ श्रीराम ही है।  बाल्यावस्था की हठधर्मिता क्रीडा और बाल लीला के बाद इनको पढ़ने पढ़ाने के लिए राजा दशरथ ने ऋषि वशिष्ठ को निवेदन किया कि चारों राजकुमारों की शिक्षा दीक्षा की जिम्मेदारी बताएं। इस पर उन्हें  गुरुकुल में ले जाकर शिक्षा-दीक्षा का कार्य करवाया गया।
इससे पूर्व व्यास पीठ पर श्रीरामचरितमानस का पूजन ओम प्रकाश मेहता एडवोकेट रमेश मंगल रामेश्वर तापड़िया और किरण मंगल और पुरषोत्तम खत्री श्यामलाल माली आदि ने किया। 



कथा में कोरोना वीरों का किया सम्मान

नंदी गौशाला द्वारा कोविड-19 के समय बाड़मेर के मेडिकल कॉलेज स्थित अस्पतालों में जिन डॉक्टर्स और नर्सिंग अधिकारियों ने अपनी जान की परवाह नहीं कर के लोगों की जान बचाई उस उपलक्ष में समिति की ओर से श्री राम कथा मंच पर व्यासपीठ और राजस्थान गोसेवा आयोग के अध्यक्ष मेवाराम जैन, सभापति दीपक माली, ओम प्रकाश मेहता, पुरुषोत्तम खत्री ने लगभग 50 डॉक्टर और नृसिंग अधिकारियों का शॉल ओढ़ाकर मोमेंटो प्रदान करते हुए सम्मान किया। सम्मान पाने वालों में डॉ. आर के आसेरी प्राचार्य मेडिकल कॉलेज, डॉ. चंद्रशेखर गजराज मुख्य चिकित्सा एवम स्वास्थ्य अधिकारी, डॉ. बीएल मंसुरिया पीएमओ, डॉ. महिपाल गोदारा, डॉ. दिनेश परमार सहित मेडिकल कॉलेज के सभी विभागाध्यक्ष, सभी प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर, असिस्टेंट प्रोफेसर, चिकित्सा अधिकारी, सभी नर्सिंग अधिकारी, प्रशासनिक स्टाफ आदि का नागरिक अभिनंदन किया।
समिति के प्रवक्ता ओम जोशी ने बताया कि कथा में मंगलवार को आरती का लाभ श्रीमती प्यारी देवी श्रवण कुमार माहेश्वरी, मेवाराम जैन, दीपक माली, ओम प्रकाश मेहता, पुरुषोत्तम खत्री, रमेश, मंगल, कैलाश, ठाकुर अमर सिंह बाना, प्रेम सिंह राजपुरोहित, राम सिंह बोथिया, तुलसीदास, रिड़मल सिंह दांता, दलपत सिंह, पार्षद तेजाराम भील, धनाराम शर्मा, देवीलाल सोनी, तुलसीराम लोहार चवा, रावत सोनी ने लाभ प्राप्त किया। इस अवसर पर चेलाराम सिंधी, किशोर शर्मा, महेश सुथार सहित हजारों की संख्या में दर्शक उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं