Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

सड़क चौड़ाई निर्माण में ठेकेदार द्वारा बरती जा रही घोर लापरवाही

जिम्मेदारों की अनदेखी, वाहन चालकों पर पड़ सकती है भारी सड़क चौड़ाई निर्माण में ठेकेदार द्वारा बरती जा रही घोर लापरवाही सुपरवाइजर द्वारा सुरक्षा...

जिम्मेदारों की अनदेखी, वाहन चालकों पर पड़ सकती है भारी

सड़क चौड़ाई निर्माण में ठेकेदार द्वारा बरती जा रही घोर लापरवाही




सुपरवाइजर द्वारा सुरक्षा को लेकर नही किए पुख्ता इंतजाम, हादसे पर कौन होगा जिम्मेदार..?


@कानु सोलंकी
बाड़मेर/सिवाना। बालोतरा से सांडेराव को जोड़ने वाले नेशनल हाइवे 325 के निर्माण के बाद सड़क मार्ग का काम रुका हुआ था। सिंगल मार्ग होने की वजह से वाहन चालकों को हर रोज परेशानियों का सामना करना पड़ रहा था। मौजूदा समय में उस सड़क मार्ग की सांत मीटर का निर्माण कार्य चल रहा हैं। निर्माणाधीन कार्य में कंपनी के ठेकेदार द्वारा हाइवे ऑथोरिटी के मापदंड को ताक पर रखकर अनियमितताएं बरती जा रही हैं। यहाँ चल रहे निर्माण कार्य में आमजन की सुरक्षा की पालना का ख्याल नही रखा जा रहा हैं। जबकि यहां आए दिन हादसे होते रहते हैं। जबकि नियमानुसार कार्यकारी कंपनी को खोदे गए भाग को चिहित करने के साथ रिफ्लेक्टर लगाने चाहिए। निर्माण कार्य में कंपनी के ठेकेदार आमजन की सुरक्षा बिल्कुल भी का ख्याल नहीं रख रहे हैं। इनकी लापरवाही से दुर्घटना का खतरा बना रहता है। खुदाई किए गए भाग की तरफ सिर्फ रेत के कट्टे भरकर रख दिये हैं साथ ही निर्माण कार्य प्रगति पर हैं कि रिब्बन बाँध रखी हैं। यहां रिफ्लेक्टर नहीं लगे होने की वजह से रात के समय में कभी भी बड़ी दुर्घटना होने से इनकार नही किया जा सकता। वहीं कई जगहों पर खुदाई की रेती को सड़क के एक तरफ डाला जा रहा हैं जिससे सड़क मार्ग पर उड़ते धूल के गुब्बार से वाहन चालकों व राहगीरों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

ठेकेदार की अनदेखी, आमजन पर भारी

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण की निगरानी में बन रहे इस सड़क मार्ग निर्माण में सुरक्षा के इंतजाम नही के बराबर हैं। निर्माण करने वाली कंपनी विष्णु प्रकाश आर पुंगलिया लिमिटेड अपनी मनमानी कर रही है। यही वजह है कि आए दिन सड़क हादसे हो रहे हैं। नियमों को इस तरह ताक पर रखा जा रहा हैं, की रात के समय आमजन की जान सांसत में हैं।

रात के समय बढ़ता हैं खतरा

सड़क निर्माण को लेकर ठेकेदार द्वारा सड़क के एक तरफ गहरी खाई बनाई जा रही हैं, वहां सिर्फ इंडिगेट के तौर पर सिर्फ रेत के कट्टे भरकर व रिबन बांध रखी हैं, जो कि दिन में दिख जाती हैं, मगर रात्रि के वक्त यहां खतरा बढ़ जाता हैं, ऐसे में चारपहिया वाहन सहित दुपहिया वाहन चालक भी जान सांसत में डालकर सफर करते हैं।

सुरक्षा के नही हैं पुख्ता इंतजाम

मौजूदा समय में खेतासर गांव से कार्य होता हुआ सिवाना की तरफ चल रहा हैं, लेकिन यहां गौर करने वाली बात यह हैं कि मुख्य सड़क से बनी खाई के किनारे सुरक्षा इंतजाम पुख्ता नहीं हैं। यहां सिर्फ सीमेंट के रेती से भरकर रखे हुए हैं जो किसी वाहन को गिरने से रोक नहीं सकते। जबकि यहाँ मजबूत व्यवस्था होनी चाहिए थी, क्योंकि इस एनएच 325 से प्रतिदिन हजारों छोटे बड़े वाहन गुजरते हैं। यहां तक कि कंपनी ने बड़े बड़े फैसले पर यह कट्टे रखे हैं ताकि उनका खर्च कम आए। लेकिन यहां सुरक्षा को ताक पर रख दिया गया हैं।

कार्य को मैनेज करता हैं सुपरवाइजर

सड़क निर्माण कार्य की जानकारी के लिए पत्रकार द्वारा सुपरवाईजर से बात की तो उन्होंने अपनी कमियों पर पर्दा डालने के लिए बोला कि रेडियम लगाए गए थे, किसी ने हटा दिए होंगे। ऐसे में साफ प्रतीत होता हैं कि सुपरवाइजर ठेकेदार की अनदेखी पर पर्दा डालने की कोशिश कर सुरक्षा इंतजामों से खिलवाड़ कर रहा हैं। इससे लाखों रुपये का तो कम्पनी को फायदा हो जाएगा मगर आमजन की जान का क्या..?

इनका कहना


"निर्माण कार्य शुरू करने से पहले सभी सीमेंट के कट्टों पर रेडियम की पट्टी लगाई गई थी, जिसको किसी ने निकाल दिया होगा, हम फिर से लगा देंगे।
- अंचल कुमार, सुपरवाइजर

"यह कार्य सड़क की चौड़ाई का चल रहा हैं, जिसमें सड़क की चौड़ाई सांत मीटर की होगी, अगर आमजन की सुरक्षा का ख्याल नही रखा गया हैं तो मैं अभी बोलकर व्यवस्था करवाता हूँ।
- जेपी सुथार, एक्सईएन एनएच 325

कोई टिप्पणी नहीं