Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

घर से स्कूल के लिए निकला शिक्षक कार में आग से जिंदा जला

घर से स्कूल के लिए निकला शिक्षक कार में आग से जिंदा जला बांसवाड़ा। शहर के कागदी पिकअप वियर के पास ऋषिकुंज क्षेत्र में शुक्रवार सुबह एक कार मे...

घर से स्कूल के लिए निकला शिक्षक कार में आग से जिंदा जला




बांसवाड़ा। शहर के कागदी पिकअप वियर के पास ऋषिकुंज क्षेत्र में शुक्रवार सुबह एक कार में अचानक आग लगने के बाद उनमें सवार सरकारी स्कूल का शिक्षक जिंदा जल गया। सूचना पर नगर परिषद के दमकल दल ने पहुंचकर एक आग बुझाई, लेकिन तब तक शिक्षक कंकाल में तब्दील हो चुका था।

पुलिस के अनुसार मृतक मूल भीमपुर हाल मोहन कॉलोनी निवासी मनोज (45) पुत्र महिपाल जैन है, जो अकेला ड्राइविंग सीट पर बैठा बैठा ही जिंदा जल गया। इसकी सूचना पुलिस को सुबह दस बजे हुए तो मौके पर कोतवाली थानाधिकारी रतन सिंह चौहान सहित टीम पहुंची। तब तक आग पर काबू पाया जा चुका था, लेकिन शिक्षक पूरी तरह जला मिला।

तीन माह से अवकाश पर थे

पूछताछ से पुलिस को पता चला कि जैन सुबह करीब साढ़े नौ बजे कार लेकर मोहन कॉलोनी में घर से निकले थे। दानपुर इलाके में दनाक्षरी के पास सरकारी स्कूल के शिक्षक जैन कान के ऑपरेशन के चलते तीन माह से मेडिकल लीव पर थे। इसके चलते उनकी कार घर में ही बन्द पड़ी थी। प्रथम दृष्टया पुलिस ने मामला पेट्रोल कार की वायरिंग में शॉर्ट सर्किट से हादसा होना माना। प्रत्यक्षदर्शियों ने कार को तेजी से आते देखा था, इसके बाद कॉलोनी के खुले-सूने परिसर में कार धधकती दिखी और बाद में पूरी कार के साथ शिक्षक खाक मिला। प्रकरण पर मौके से एफएसएल टीम में घटना के कारणों की जांच के लिए सुराग उठाए। मामले में दोपहर तक मौके पर पुलिस कार्रवाई जारी रही।

एक कार में चार-पांच टीचर जाते थे

टीचर के मामा ने बताया कि वह अपने साथी चार-पांच टीचर के साथ स्कूल जाता था। बारी-बारी से सभी अपनी कार लाते थे और मोहन कॉलोनी चौराहे पर मिलते थे। आज अकेले अपनी कार से जा रहा था। स्कूल के टीचर नाकूराम निनामा ने बताया कि मनोज जैन एक नवंबर 2022 से मेडिकल लीव पर था। 1, 6 और 12 दिसम्बर को वह स्कूल गए था।

LIC एजेंट भी थे टीचर

लोगों ने बताया कि टीचर धार्मिक प्रवृत्ति का था। दिन में दो बार मंदिर जाकर जलाभिषेक करता था। टीचिंग के अलाव वह LIC एजेंट भी था। हालांकि, बीमारी के दौरान LIC का काम नहीं किया था। टीचर के एक बेटा-बेटी है। बेटा बेंगलुरु में इंजीनियर है, उसके आने के बाद ही अंतिम संस्कार किया जाएगा।

कोई टिप्पणी नहीं