Page Nav

SHOW

Breaking News:

latest

थार की माटी से निकली इन बेटियों ने दिखाई संघर्ष की नई राह..!!

थार की माटी से निकली इन बेटियों ने दिखाई संघर्ष की नई राह..!! बाड़मेर। थार मरुस्थल के मखमली धोरों की महिमा और इस माटी की महक और यहां की जीवन...

थार की माटी से निकली इन बेटियों ने दिखाई संघर्ष की नई राह..!!




बाड़मेर। थार मरुस्थल के मखमली धोरों की महिमा और इस माटी की महक और यहां की जीवनशैली की बात देश ही नहीं बल्कि दुनियां भी करती हैं। यहां का जीवन और रहन सहन किसी से छुपा नहीं हैं मगर बात करें यहां की माटी से निकलने वाली है अनमोल खजानों की तो इस माटी ने बेशुमार खज़ाने दिए चाहे वो लिग्नाइट हो मुल्तानी मिट्टी हो कोयला हो बेशकीमती पत्थरों बात हो या काला सोना हो हर कोई जानता हैं। इन सबके अलावा इस माटी ने कई सारे वीर सपूत देश के लिए दिए हैं एक समय था जब लोग इस मिट्टी को बंजर कहते थे लेकिन आज इस मिट्टी में कई संघर्ष की मिसालें देखने को मिलती हैं। खास करके महिलाओं के प्रति शिक्षा की अलग काफी लंबे अरसे बाद लगातार जागती आ रही हैं। आज इस शिक्षा की बदौलत मरुधरा की बेटियां लगातार अपनी शक्ति का लोहा मनवा रही हैं। हाल ही में बाड़मेर जिले की इन दोनों बेटियों के संघर्ष के चर्चें पूरे देश में है। दोनों ने अपने संघर्ष को पछाड़ते हुए अपने कंधे पर परिवार की जिम्मेदारी के साथ - साथ देश की रक्षा के लिए सितारे जगमगाए है। बाड़मेर के छोटे से गांव राऊजी की ढाणी काउखेड़ा की बेटी प्यारी चौधरी भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट बनी है तो बाड़मेर शहर के आजाद चौक के मूल निवासी और वर्तमान में ईरोड (तमिलनाडु) के निवासी अशोक कुमार बोथरा की बेटी प्रियंका भी आईएएस अधिकारी हैं। लेकिन इन सबसे अलग जो ग्रामीण जीवन और पारिवारिक परिस्थियों से संघर्ष करके जो मिसाल कायम की और मेहनत के दम पर जो मुकाम हासिल किया वो पढ़ने वाली पीढ़ी के लिए एक बेहतरीन प्रेरणा हैं। वो हैं बाड़मेर के मंगले की बेरी की सब इंस्पेक्टर लक्ष्मी गढ़वीर और सरणू की सब इंस्पेक्टर हेमलता चौधरी जिन्होंने विकट परिस्थितियों और जीवन में आई अनेकों कठिनाइयों के तमाम संघर्षों को धत्ता बताते हुए खुद के सपनो को पंख लगा कर जो मुकाम हासिल किया हैं वो अपने आप में एक मिसाल हैं। आप दोनों को दो कदम गांव की ओर परिवार बहुत - बहुत बधाई देता हैं। आज आप दोनों राजस्थान पुलिस का हिस्सा हो यह गर्व की अनिभूति देता है। आपके संघर्ष और जीवनी हमे ही नही हजारों बेटियों को प्रेरणा देती है। बाड़मेर को गर्व है आप पर....।

कोई टिप्पणी नहीं